Friday, 6 January 2012

अशआर


यहाँ लिबास की कीमत है आदमी की नहीं...
साकी मुझे गिलास बड़ा दे.शराब कम कर दे!!
~बशीर बद्र

No comments:

Post a Comment